How to Appease Lord Saturn


Saturn is known as Shani in Sanskrit. Upaya means to make a strategy to Please the God. In Jyotish we take the Upaya very seriously as it is the way to please the god or seem pardon of past life actions, of negative thoughts and blocks to your mind in order to open up a newer fresher world.
 
How to Please Lord saturn : कैसे करें शनिदेव को प्रसन्न
 
 
शनिवार का व्रत यूं तो आप वर्ष के किसी भी शनिवार के दिन शुरू कर सकते हैं। इस व्रत का पालन करने वाले को शनिवार के दिन प्रातः ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करके शनिदेव की प्रतिमा की विधि सहित पूजन करनी चाहिए। 
 
 
शनिवार के दिन शनि देव की विशेष पूजा होती है। शहर के हर छोटे बड़े शनि मंदिर में सुबह ही आपको शनि भक्त देखने को मिल जाएंगे। 
 
* शनि भक्तों को इस दिन शनि मंदिर में जाकर शनि देव को नीले लाजवंती का फूल, तिल, तेल, गु़ड़ अर्पण करना चाहिए। शनि देव के नाम से दीपोत्सर्ग करना चाहिए। 
 
* शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा के पश्चात उनसे अपने अपराधों एवं जाने-अनजाने जो भी आपसे पाप कर्म हुआ हो उसके लिए क्षमा याचना करनी चाहिए। 
 
 
* शनि महाराज की पूजा के पश्चात राहु और केतु की पूजा भी करनी चाहिए। 
 
* इस दिन शनि भक्तों को पीपल में जल देना चाहिए और पीपल में सूत्र बांधकर सात बार परिक्रमा करनी चाहिए। 
 
* शनिवार के दिन भक्तों को शनि महाराज के नाम से व्रत रखना चाहिए।
 
* शनि की शांति के लिए नीलम को भी पहना जा सकता है। 
 
* शनिश्वर के भक्तों को संध्या काल में शनि मंदिर में जाकर दीप भेंट करना चाहिए और उड़द दाल में खिचड़ी बनाकर शनि महाराज को भोग लगाना चाहिए। शनिदेव का आशीर्वाद लेने के पश्चात आपको प्रसाद स्वरूप खिचड़ी खाना चाहिए। 
 
* सूर्यपुत्र शनिदेव की प्रसन्नता हेतु इस दिन काली चींटियों को गु़ड़ एवं आटा देना चाहिए। 
 
* इस दिन काले रंग का वस्त्र धारण करना चाहिए। 
 
* श्रावण मास में शनिवार का व्रत प्रारंभ करना अति मंगलकारी माना जाता है। 
 
इस प्रकार भक्ति एवं श्रद्धापूर्वक शनिवार के दिन शनिदेव का व्रत एवं पूजन करने से शनि का कोप शांत होता है और शनि की दशा के समय उनके भक्तों को कष्ट की अनुभूति नहीं होती है। 








ASK A QUESTION